Ticker

99/recent/ticker-posts

Stock Market : नहीं टूट रहा गिरावट का सिलसिला, आज भी नुकसान कराएगा बाजार, कौन-से फैक्‍टर डालेंगे ज्‍यादा असर?

 


नई दिल्‍ली. भारतीय शेयर बाजार (Stock Market) में जारी गिरावट का सिलसिला इस सप्‍ताह थमने का नाम नहीं ले रहा है. सप्‍ताह के शुरुआती तीन कारोबारी सत्र में नुकसान झेलने के बाद आज बृहस्‍पतिवार को लगातार चौथे सत्र में भी बाजार का सेंटिमेंट कमजोर दिख रहा है.

सेंसेक्‍स पिछले सत्र में 372 अंकों के नुकसान के साथ 53,514 पर बंद हुआ था, जबकि निफ्टी 92 अंकों के नुकसान के साथ 15,967 पर पहुंच गया था. एक्‍सपर्ट का कहना है कि आज भारतीय निवेशकों पर ग्‍लोबल मार्केट का दबाव दिखेगा और बिकवाली व मुनाफावसूली से एक बार फिर गिरावट दिखेगी. सेंसेक्‍स पिछले तीन सत्र में करीब 1,000 अंक टूट चुका है. आज के कारोबार में छोटे निवेशकों को बड़ा दांव लगाने से बचना चाहिए.

अमेरिकी बाजार पर महंगाई का असर

अमेरिकी शेयर बाजार लगातार दबाव में है और वहां बढ़ती महंगाई व मंदी की आशंका का असर साफ देखा जा सकता है. अमेरिका ने बुधवार को खुदरा महंगाई के आंकड़े जारी किए जो 41 साल में सबसे ज्‍यादा हैं. इसका असर निवेशकों के सेंटिमेंट पर दिखा और प्रमुख शेयर बाजार NASDAQ पिछले सत्र में 0.15 फीसदी के नुकसान पर बंद हुआ.

यूरोपीय बाजार भी लाल निशान पर

अमेरिका में आई गिरावट का असर यूरोपीय शेयर बाजारों पर भी दिखा. पिछले सत्र में यूरोप के सभी प्रमुख शेयर बाजारों में गिरावट दिखी है. जर्मनी का स्‍टॉक एक्‍सचेंज पिछले सत्र में 1.16 फीसदी के बड़े नुकसान पर बंद हुआ, जबकि फ्रांस का शेयर बाजार 0.73 फीसदी के नुकसान पर बंद हुआ था. इसी तरह, लंदन स्‍टॉक एक्‍सचेंज पर भी पिछले सत्र में 0.74 फीसदी का नुकसान दिखा.

एशियाई बाजारों पर बिकवाली हावी

एशिया के ज्‍यादातर शेयर बाजार बृहस्‍पतिवार सुबह गिरावट पर खुले और लाल निशान पर ट्रेडिंग कर रहे हैं. सिंगापुर स्‍टॉक एक्‍सचेंज आज 0.44 फीसदी के नुकसान पर ट्रेडिंग कर रहा, जबकि जापान का निक्‍केई 0.11 फीसदी टूटकर कारोबार कर रहा है. इसके अलावा दक्षिण कोरिया का कॉस्‍पी शेयर बाजार 0.49 फीसदी तो चीन का शंघाई कंपोजिट 0.05 फीसदी के नुकसान पर ट्रेडिंग कर रहा है.

विदेशी निवेशकों ने करोड़ों रुपये निकाले

विदेशी निवेशकों का भारतीय बाजार से धन निकासी का सिलसिला कायम है. पिछले सत्र में भी विदेशी संस्‍थागत निवेशकों ने बाजार से 2,839.52 करोड़ रुपये के शेयर बेचकर पैसे निकाल लिए. हालांकि, इस दौरान घरेलू संस्‍थागत निवेशकों ने 1,799.22 करोड़ रुपये के शेयर खरीदे लेकिन वे बाजार में आई गिरावट को नहीं थाम सके. विदेशी निवेशकों ने इस साल करीब ढाई लाख करोड़ रुपये की निकासी बाजार से की है.

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ