Ticker

99/recent/ticker-posts

EPFO शेयर बाजार में 20% तक निवेश की दे सकता है मंजूरी, जानिए सब्सक्राइबर्स पर क्या पड़ेगा असर?

 

EPFO के इक्विटी से जुड़े निवेश पर रिटर्न 2021 में बढ़कर 16.27% हो गया जो 2020-21 में 14.67% था

कर्मचारी भविष्य निधि संगठन (EPFO) शेयर और उससे जुड़ी स्कीमों में निवेश की मौजूदा सीमा 15 प्रतिशत से बढ़ाकर 20 फीसदी तक करने के प्रस्ताव को मंजूरी दे सकता है। न्यूज एजेंसी पीटीआई ने सूत्रों के हवाले यह जानकारी दी है। रिपोर्ट के मुताबिक EPFO के ट्रस्टीज की 29 और 30 जुलाई को बैठक होने वाली है, जिसमें इस प्रस्ताव को मंजूरी दिए जाने की उम्मीद है।

फिलहाल EPFO निवेश के लिए जमा राशि का 5 से 15 फीसदी इक्विटी या इक्विटी से जुड़ी स्कीमों में निवेश कर सकता है। इस सीमा को बढ़ाकर 20 प्रतिशत करने के प्रस्ताव पर EPFO को सलाह देने वाली संस्था फाइनेंस ऑडिट एंड इनवेस्टमेंट कमिटी (FAIC) ने विचार किया और मंजूरी दी है।

FAIC की सिफारिश को विचार और मंजूरी के लिए EPFO में फैसला लेने वाले शीर्ष संस्था सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्र्स्टीज (CBT) के सामने रखा जाएगा। रिपोर्ट के मुताबिक, "केंद्रीय श्रम मंत्री की अध्यक्षता वाला सेंट्रल बोर्ड ऑफ ट्र्स्टीज (CBT), FAIC की इक्विटी और इक्विटी से जुड़ी स्कीमों में 5 से 15 प्रतिशत तक की मौजूदा निवेश सीमा को बढ़ाकर 20 फीसदी तक करने को मंजूरी दे सकता है।"

लोकसभा में एक सवाल के लिखित जवाब में श्रम व रोजगार राज्यमंत्री रामेश्वर तेली ने सोमवार को कहा, "CBT की उप-समिति FIAC ने इक्विटी और इक्विटी से जुड़ी स्कीमों में निवेश सीमा को मौजूदा 5-15 प्रतिशत से बढ़ाकर 5-20 फीसदी करने पर विचार करने की सिफारिश की है।"

EPFO ने पहली बागर अगस्त, 2015 में एक्सचेंज ट्रेडेड फंड (ETF) में निवेश को मंजूरी दी थी। उस समय निवेश योग्य जमा राशि का 5 फीसदी शेयरों से जुड़ी स्कीमों में निवेश की मंजूरी दी गई थी।। मौजूदा वित्त वर्ष के लिए इसे बढ़ाकर 15 प्रतिशत कर दिया गया। तेली ने यह भी कहा कि EPFO के इक्विटी से जुड़े निवेश पर रिटर्न वित्त वर्ष 2022 में बढ़कर 16.27 प्रतिशत हो गया जो 2021 में 14.67 प्रतिशत था।

हालांकि, EPFO के शेयर बाजार में निवेश का कर्मचारी यूनियन विरोध करते रहे हैं। इसका कारण यह है कि इस निवेश पर सरकार की गारंटी नहीं होती है और यह बाजार जोखिमों के अधीन होता है।

ईपीएफओ के इस समय करीब 5 करोड़ सब्‍सक्राइबर हैं। फिलहाल ईपीएफओ कुछ एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ETF) में लगभग 1,800-2,000 करोड़ रुपये निवेश करता है। EPFO अधिकारियों ने पिछले दिनों इक्विटी स्कीम्स में निवेश की संभावनाओं के आकलन के लिए म्यूचुअल फंड मैनेजर्स से मुलाकात भी की थी।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ