Ticker

99/recent/ticker-posts

खाक हो गए हैं क्रिप्टोकरंसी में लगे 10 खरब डॉलर, दिवालिया हुईं बड़ी-बड़ी कंपनियां

 

नई दिल्ली, 15 जुलाई। क्रिप्टो लैंडर फर्म सेल्यिस नेटवर्क ने खुदको दिवालिया घोषित कराने के लिए अदालत में अर्जी दाखिल की है. कंपनी के एक लाख से ज्यादा ग्राहकों का पैसा डूब गया है. कंपनी ने कहा है कि उसने अपने कारोबार में स्थिरता लाने के मकसद से यह कदम उठाया है और अब वह पूरा ढांचा बदलने पर काम करेगी जो सभी हिस्सेदारों के लिए होगा. कंपनी ने न्यूयॉर्क में अर्जी दाखिल की है.

सेल्सियस दुनिया की सबसे बड़ी क्रिप्टो लैंडर कंपनियों में शामिल थी. उसने 18 प्रतिशत तक की ऊंची ब्याज दर की पेशकश कर रखी थी और 20 अरब डॉलर जुटा लिए थे लेकिन मई-जून में जब क्रिप्टो बाजार में उतार शुरू हुआ तो कंपनी के ग्राहकों में भी हड़बड़ी मच गई और वे अपना निवेश वापस मांगने लगे. तब मध्य जून में कंपनी ने धन वापस निकालने पर रोक लगा दी थी. ताजा बयान में सेल्सियस ने कहा है कि उसकी संपत्ति और देनदारियों की कुल कीमत एक से दस अरब डॉलर के बीच है.

सेल्सियस का पूरा कारोबार लोगों से उधार पर लिए गए धन पर खड़ा था. इस निवेश के बदले में कंपनी भारी-भरकम ब्याज दे रही थी. जून में धन निकासी पर रोक लगाने के बाद कंपनी ने कहा था कि उसने सभी ग्राहकों का भला सोचकर ही धन निकालने पर रोक लगाई थी. एक बयान जारी कर कंपनी ने कहा कि धन निकालने पर रोक इसलिए लगाई गई ताकि अचानक धन निकासी होने से "जो पहले कदम उठा लेंगे उन्हें पूरा पैसा मिल जाएगा जबकि बाकियों को तब तक के लिए इंतजार करना पड़ेगा जबकि सेल्सियस अपनी संपत्ति से धन उगाहे."

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ