Ticker

99/recent/ticker-posts

अडानी ग्रुप को पड़ा भारी यह फैसला,अचानक शेयर बेचने लग गए निवेशक


 अडानी ग्रुप की खाद्य तेल कंपनी अडानी विल्मर के शेयरों में मंगलवार के कारोबार में 3% से ज्यादा की गिरावट देखी गई। अडानी विल्मर का शेयर सोमवार के 623.30 रुपये बंद के मुकाबले आज 3.42 प्रतिशत गिरकर 602 रुपये पर आ गया था।

अडानी विल्मर ने 20-दिन, 100-दिन और 200-दिवसीय मूविंग एवरेज से अधिक लेकिन 5-दिवसीय और 50-दिवसीय मूविंग एवरेज से कम कारोबार किया। हालांकि, बाद में कुछ सुधार नजर आया। दरअसल, अडानी विल्मर ने खाने का तेल 30 रुपये तक सस्ता करने का ऐलान किया, जिसके बाद कंपनी के शेयर धड़ाम हो गए।

सरकार के आदेश के बाद अडानी का फैसला

आपको बता दें कि सरकार के आदेश के बाद अडानी ग्रुप की कंपनी अडानी विल्मर ने फॉर्च्यून के तेलों पर दाम घटाने का ऐलान किया है। कंपनी ने एक झटके में एडिबल ऑयल की कीमतों में 30 रुपये तक की कटौती कर दी है। इसका ऐलान सोमवार को किया गया था। सबसे अधिक कटौती सोयाबीन तेल के दामों में की गई है।

बता दें कि इससे पहले, धारा ब्रांड के तहत खाद्य तेल की बिक्री करने वाली मदर डेयरी ने सोयाबीन और राइस ब्रान ऑइस के दामों 14 रुपये प्रति लीटर की कटौती की थी। आपको बता दें कि हाल ही में केंद्र की मोदी सरकार ने एडिल ऑयल एसोसिएशन को जल्द से जल्द तेल के दाम घटाने का आदेश दिया था। इस आदेश में सरकार ने तेल कंपनियों को तत्काल प्रभाव से 15 रुपये प्रति लीटर दाम घटाने को कहा था।

कंपनी के शेयरों का हाल

स्टॉक ने 28 अप्रैल 2022 को 878.35 रुपये के रिकॉर्ड हाई पर पहुंच गया था। शेयर बाजार में कंपनी की लिस्टिंग 8 फरवरी, 2022 को हुई थी। अडानी विल्मर का शेयर 230 रुपये के आईपीओ प्राइस बैंड के मुकाबले बाजार में 221 रुपये पर डिस्काउंट के साथ लिस्ट हुआ था।

तब से अब तक यह शेयर 129 पर्सेंट से ज्यादा का रिटर्न दे चुका है। फर्म ने 31 मार्च, 2022 को समाप्त तिमाही के लिए 234.3 करोड़ रुपये का लाभ दर्ज किया, जबकि एक साल पहले की अवधि में 315 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ था।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ