Ticker

99/recent/ticker-posts

शेयर बाजारों में लगातार दूसरे दिन गिरावट, सेंसेक्स 94 अंक टूटा, निफ्टी भी नुकसान में

 

 मुंबई, छह जून (भाषा) घरेलू शेयर बाजारों में सोमवार को लगातार दूसरे कारोबारी सत्र में गिरावट रही और बीएसई सेंसेक्स 94 अंक टूटकर बंद हुआ। इस सप्ताह भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की मौद्रिक नीति समीक्षा से पहले विदेशी संस्थागत निवेशकों की लगातार बिकवाली और कच्चे तेल के दाम में तेजी से निवेशक सतर्क नजर आये।

तीस शेयरों पर आधारित बीएसई सेंसेक्स एक समय 450 अंक तक नीचे चला गया था। अंत में यह 93.91 अंक यानी 0.17 प्रतिशत की गिरावट के साथ 55,675.32 अंक पर बंद हुआ।

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज का निफ्टी भी 14.75 अंक यानी 0.09 प्रतिशत की गिरावट के साथ 16,569.55 अंक पर बंद हुआ।

सेंसेक्स के शेयरों में एशियन पेंट्स सबसे अधिक 2.36 प्रतिशत नीचे आया। इसके अलावा अल्ट्राटेक सीमेंट, बजाज फिनसर्व, नेस्ले इंडिया, लार्सन एंड टुब्रो, एक्सिस बैंक, डॉ. रेड्डीज और हिंदुस्तान यूनिलीवर भी प्रमुख रूप से नुकसान में रहे।

इस रुख के उलट टाटा स्टील, इंडसइंड बैंक, महिंद्रा एंड महिंद्रा, आईटीसी, कोटक महिंद्रा बैंक, इन्फोसिस और आईसीआईसीआई बैंक 0.99 प्रतिशत तक लाभ में रहे।

सेंसेक्स के 30 शेयरों में से 21 नुकसान में रहे।

आनंद राठी शेयर्स एंड स्टॉक ब्रोकर्स के इक्विटी शोध प्रमुख (बुनियादी) नरेंद्र सोलंकी ने कहा, ‘‘एशियाई बाजारों में मिले-जुले रुख के बीच घरेलू बाजार गिरावट के साथ खुले। दोपहर के कारोबार में बाजार कुछ बढ़त में आया। बाजार में आरबीआई की मौद्रिक नीति समीक्षा से पहले अनिर्णय की स्थिति बनी हुई है।’’

आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की तीन दिन की बैठक सोमवार को शुरू हुई। आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास बुधवार को मौद्रिक नीति समिति की बैठक में किये गये निर्णय की जानकारी देंगे।

कोटक सिक्योरिटीज लि. के इक्विटी शोध प्रमुख श्रीकांत चौहान ने कहा, ‘‘इस सप्ताह मौद्रिक नीति समीक्षा से पहले निवेशक सतर्क रुख अपना रहे हैं। इसीलिए निवेशकों ने रियल्टी जैसे ब्याज दर से संबंधित क्षेत्रों में निवेश कम किया है।’’ एशिया के अन्य बाजारों में जापान का निक्की, चीन का शंघाई कंपोजिट और हांगकांग का हैंगसेंग लाभ में रहे।

यूरोप के प्रमुख बाजारों में दोपहर के कारोबार में तेजी का रुख रहा।

इस बीच, अंतरराष्ट्रीय तेल मानक ब्रेंट क्रूड 0.61 प्रतिशत की बढ़त के साथ 120.4 डॉलर प्रति बैरल पर पहुंच गया।

शेयर बाजार के आंकड़ों के अनुसार, विदेशी संस्थागत निवेशकों ने शुक्रवार को 3,770.51 करोड़ रुपये मूल्य के शेयर बेचे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ