Ticker

99/recent/ticker-posts

सेक्सुअल रिलेशन इंसान को बनाते है खूबसूरत, जानिए कैसे

 


दुनिया में कई अजीबोगरीब बीमारिया है, और सेक्सुअल रिलेशन से भी कई बीमारियां होती है। हाल ही में फिनलैंड के रिसर्चर्स ने सेक्शुअल रिलेशन से फैलने वाले एक पैरासाइट को लेकर अजीबोगरीब दावा किया है। इस पैरासाइट का नाम टोक्सोप्लाज्मा गोंडी पैरासाइट है। यह सेक्शुअल रिलेशन से फैलने वाला टोक्सोप्लाज्मा गोंडी पैरासाइट लगभग 50% आबादी में पाया जाता है।

यह इंसानों में सिजोफ्रेनिया और दूसरी गंभीर मानसिक बीमारियों के लिए जिम्मेदार होता है। वैज्ञानिकों का कहना है कि इस पैरासाइट से संक्रमित लोग दूसरों के मुकाबले ज्यादा खूबसूरत नजर आते हैं इस रिसर्च को फिनलैंड की टुर्कु यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स ने किया है। उनका कहना है कि टोक्सोप्लाज्मा पैरासाइट से संक्रमित लोग दूसरों की तुलना में ज्यादा आकर्षक और सेहतमंद दिखाई देते हैं।

खासतौर पर विपरीत सेक्स के लोगों को ज्यादा सुंदर लगते हैं। महिलाओं और पुरुषों दोनों में ही पैरासाइट का असर समान पाया गया। वैज्ञानिकों का मानना है कि अपने शिकार को आकर्षक बनाने से टोक्सोप्लाज्मा का ही फायदा होता है। पैरासाइट से संक्रमित मरीज दूसरों को खूबसूरत लगने लगता है

जिसके चलते उसे और सेक्शुअल पार्टनर्स मिलने की संभावना होती है। इस तरह पैरासाइट और लोगों को संक्रमित करने में कामयाब होता है। रिसर्चर्स का कहना है कि उसकी यह स्ट्रैटेजी सदियों के इवोल्यूशन से विकसित हुई है। रिसर्च में शामिल बायोलॉजिस्ट जेवियर बोर्राज-लियोन ने बताया कि एक दूसरी स्टडी में चूहों पर हुए एक्सपेरिमेंट में यह बात सामने आई की टोक्सोप्लाज्मा से संक्रमित होने पर फीमेल चूहों के लिए मेल चूहे ज्यादा सेक्शुअली अट्रैक्टिव बन जाते हैं।

सेक्शुअल रिलेशन के लिए उन्हें ही प्रिफर करती हैं। वैज्ञानिकों ने अपनी थ्योरी को टेस्ट करने के लिए पैरासाइट से संक्रमित 35 लोगों (22 पुरुष, 13 महिलाओं) की तुलना 178 नॉर्मल लोगों (86 पुरुष, 92 महिलाओं) से की। कई टेस्ट्स के बाद संक्रमित लोगों के चेहरे में बदलाव नजर आए।

उनका चेहरा दूसरों से ज्यादा सिमेट्रिकल दिखाई दिया। साथ ही संक्रमित महिलाओं का वजन नॉर्मल महिलाओं के मुकाबले कम पाया गया। यह सभी चीजें एक इंसान को आकर्षक बनाती हैं। इस बात के कोई पुख्ता सबूत तो नहीं है, लेकिन वैज्ञानिकों का कहना है कि शायद पैरासाइट इंसान के हॉर्मोन्स में बदलाव करता है

इससे उसके चेहरे की खूबसूरती पर असर पड़ता है। उदाहरण के लिए, कुछ मामलों में पाया गया है कि संक्रमित पुरुषों में दूसरों के मुकाबले टेस्टोस्टेरोन हॉर्मोन की मात्रा बढ़ जाती है। तो वही वैज्ञानिकों की दूसरी थ्योरी के अनुसार, पैरासाइट इंसान के शरीर में केमिकल्स और न्यूरोट्रांसमिटर्स में हेर-फेर कर उन्हें अपने फायदे के लिए इस्तेमाल करता है। इस हेर-फेर का साइड इफेक्ट चेहरे की सुंदरता हो सकती है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ