Ticker

99/recent/ticker-posts

देश के कोर सेक्टर की ग्रोथ अप्रैल में 8.4 प्रतिशत बढ़ी, किस सेक्टर में रही सबसे ज्यादा तेजी,

 

नई दिल्ली . बुनियादी क्षेत्र के आठ उद्योगों का उत्पादन अप्रैल, 2022 में एक साल पहले के इसी महीने के मुकाबले 8.4 प्रतिशत बढ़ा. मंगलवार को जारी आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, मार्च 2022 में कोयला, कच्चा तेल, प्राकृतिक गैस, रिफाइनरी उत्पाद, उर्वरक, स्टील, सीमेंट और बिजली जैसे आठ बुनियादी ढांचा क्षेत्रों के उत्पादन में 4.9 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी.

लॉकडाउन की वजह से अप्रैल 2021 के दौरान इन प्रमुख क्षेत्रों में असाधारण रूप से 62.6 प्रतिशत की उच्च वृद्धि देखी गई थी. अप्रैल 2020 में कोविड-19 महामारी की रोकथाम के लिये लगाये गये देशव्यापी ‘लॉकडाउन’ के कारण कारोबारी गतिविधियां दरअसल पूरी तरह से बंद रही थी. आंकड़ों के अनुसार कच्चे तेल का उत्पादन अप्रैल में 0.9 प्रतिशत घटा है जबकि एक साल पहले इसी महीने में इसमें 2.1 प्रतिशत की गिरावट आई थी.

इन सेक्टर्स की रफ्तार तेज

कोयला, बिजली, रिफाइनरी उत्पाद, उर्वरक, सीमेंट और प्राकृतिक गैस उद्योगों का उत्पादन अप्रैल 2022 में पिछले वर्ष की समान अवधि की तुलना में बढ़ा है. गौरतलब है कि औद्योगिक उत्पादन सूचकांक (IIP) में शामिल मदों के भार का 40.27 फीसदी आठ प्रमुख औद्योगिक क्षेत्रों से आता है.

कोयले का उत्पादन बढ़ा

आठ प्रमुख क्षेत्रों में से छह में उत्पादन अप्रैल में बढ़ा है. ये क्षेत्र कोयला, बिजली, रिफाइनरी उत्पाद, उर्वरक, सीमेंट और प्राकृतिक गैस थे. जहां अप्रैल में साल-दर-साल आधार पर कोयले का उत्पादन 28.8 फीसदी बढ़ा, वहीं बिजली उत्पादन 10.7 फीसदी बढ़ा है.

अप्रैल में रिफाइनरी उत्पादों का उत्पादन 9.2 प्रतिशत और उर्वरक उत्पादन 8.7 प्रतिशत बढ़ा. सीमेंट उत्पादन में 8 प्रतिशत की वृद्धि हुई जबकि प्राकृतिक गैस के उत्पादन में 6.4 प्रतिशत की वृद्धि हुई. स्टील का उत्पादन अप्रैल में 0.7 प्रतिशत गिरा जबकि कच्चे तेल का उत्पादन 0.9 प्रतिशत गिरा.

यह डाटा अंतिम नहीं है और बाद में इसे संशोधित किया जा सकता है. मई के लिए कोर इंडस्ट्रीज के आंकड़े 30 जून को जारी किए जाएंगे. जनवरी 2022 के लिए आठ प्रमुख क्षेत्रों के सूचकांक की अंतिम वृद्धि दर को इसके 3.7 प्रतिशत के अनंतिम स्तर से संशोधित कर 4 प्रतिशत कर दिया गया था.

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ