Ticker

99/recent/ticker-posts

Exclusive: Zomato का बोर्ड 17 जून को होने वाली मीटिंग में Blinkit के अधिग्रहण करार पर करेगा हस्ताक्षर

 

Zomato के शेयर के आज की चाल पर नजर डालें तो एनएसई पर यह 2.25 रुपये यानी 3.12 फीसदी की गिरावट के साथ 69.90 रुपये के स्तर पर बंद हुआ

Zomato की अगली बोर्ड मीटिंग 17 जून को होने वाली है । मामले की जानकारी रखने वाले सूत्रों के हवाले से मिली जानकारी के मुताबिक इस बोर्ड मीटिंग में क्विक कॉर्मस कंपनी Blinkit के अधिग्रहण पर होने वाले करार पर हस्ताक्षर किए जाएंगे। बता दें कि इस डील के लिए पहले हुए बातचीत में इस अधिग्रहण के लिए Blinkit का वैल्यूएशन 70 करोड़ डॉलर तय किया गया था लेकिन सूत्रों का कहना है कि फाइनल डील की वैल्यू इससे कम हो सकती है क्योंकि इस डील में शेयर स्वैपिंग का भी प्रावधान हो सकता है। इस प्रावधान के तहत Zomato को अपने एक शेयर के बदले में Blinkit के 10 शेयर मिलेंगे।

गौरतलब है कि Blinkit को पूर्व में ग्रोफर्स के नाम से जाना जाता था। Blinkit क्विक सर्विस ग्रोसरी फॉर्मेट में बढ़ती प्रतिस्पर्धा के चलते भारी दबाव में आ गया है। कंपनी को Zepto और Swiggy के इंस्टामार्ट से भारी कॉम्पिटिशन का सामना करना पड़ रहा है जिसके चलते कंपनी को अपने तमाम कर्मचारियों की छंटनी करनी पड़ी है , कई स्टोर बंद करने पड़े हैं और कुछ वेंडरों के पेमेंट में भी देरी हुई है।

मनीकंट्रोल ने आपको पहले ही सूचित किया था कि इस अधिग्रहण के लिए Zomato को कम्पटीशन कमीशन ऑफ इंडिया (CCI) की मंजूरी की जरुरत नहीं होगी। कंपनी की योजना 'de minimis' exemption के प्रावधान को उपयोग में लाने की है। इस प्रावधान के तहत एक निश्चित साइज से कम के करार के लिए कम्पटीशन कमीशन ऑफ इंडिया से मंजूरी की जरुरत नहीं होती।

Zomato ने इस खबर पर मीडिया की तरफ से की गई पूछताछ का कोई जवाब नहीं दिया है। उम्मीद है कि कंपनी जल्द ही इस बारे में एक्सचेंजों को सूचना देगी। गौरतलब है कि इसी साल मार्च महीने में Zomato ने वित्तीय दिक्कतों से जूझ रही कंपनी Blinkit को उसकी कैपिटल जरुरतों को पूरा करने के लिए 15 करोड़ डॉलर का कर्ज देना का करार किया था। यह कर्ज एक या एक से अधिक किश्तों में दिया जाएगा।

Zomato ने हाल ही में अपने नतीजों के ऐलान के दौरान बताया था कि Blinkit को दिए गए इस कर्ज पूरी राशि का भुगतान अभी तक नहीं किया गया है। बकाया भुगतान कंपनी की जरुरत के हिसाब से किया जाएगा।

बतातें चलें कि 2022 में जोमैटो के शेयरों की भारी पिटाई हुई है। गौरतलब है कि हाल में लिस्ट हुई तमाम इंटरनेट और टेक आधारित कंपनियों का वैल्यूएशन काफी ज्यादा रहा था और इनमें से अधिकांश घाटे में चल रही हैं। इसके अलावा दुनिया भर के केंद्रीय बैंकों द्वारा ब्याज दरों में बढ़ोतरी की संभावना के चलते भी इन शेयरों पर काफी दबाव बना है जिसके कारण नए युग के टेक आधारित इन शेयरों की जोरदार पिटाई होती दिखी है जिसमें जोमैटो के शेयर भी शामिल हैं।

Zomato के शेयर के आज की चाल पर नजर डालें तो एनएसई पर यह 2.25 रुपये यानी 3.12 फीसदी की गिरावट के साथ 69.90 रुपये के स्तर पर बंद हुआ। इस स्टॉक का 52 वीक हाई 169 रुपये का है जबकि 52 वीक लो 50.05 रुपये का है। स्टॉक का वॉल्यूम 30,078,469 है। कंपनी का मार्केट कैप 55,036 करोड़ रुपये है। कंपनी का 20 डे एवरेज वॉल्यूम 70,698,709 है जबकि 20 डे एवरेज डिलीवरी 16.69 फीसदी है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ