Ticker

99/recent/ticker-posts

एयर इंडिया में कर्मचारियों की संख्या होगी कम, 55 साल से अधिक उम्र के कर्मचारियों को VRS की पेशकश

 


एयरलाइंस के इतिहास में शायद यह पहली बार है, जब केबिन क्रू के लिए भी वीआरएस लाया गया है.

नई दिल्ली. टाटा ग्रुप (TATA Group) ने एयर इंडिया को अपने हाथों में लेने के बाद इसके कायाकल्प की तैयारी की है. इसी के तहत कंपनी ने अपने परमानेंट कर्मचारियों के लिए वॉलेंटरी रिटायरमेंट स्कीम (VRS) लॉन्च की है. कर्मचारियों की संख्या कम करने के लिए कंपनी का यह पहला अभियान है. नमक से स्टील तक बनाने वाले इस ग्रुप ने पिछले साल इस एयरलाइन को एक्वायर किया था. इस एयरलाइन में नवंबर 2019 तक 9,426 परमानेंट कर्मचारी थे.

अगर कर्मचारी की उम्र 55 साल से ज्यादा है या उन्होंने लगातार 20 साल तक इस कंपनी में काम किया है, तो वे इस ऑप्शन का लाभ उठा पाएंगे. सबसे बड़ी बात यह है कि एयर इंडिया की यह स्कीम महज 40 साल की उम्र के लोगों के लिए भी है. मेमो के मुताबिक, 40 साल की उम्र वाले केबिन क्रू, क्लर्क, अनस्क्ल्डि कार्यबल भी वीआरएस के लिए आवेदन कर सकते हैं. वीआरएस का विकल्प चुनने वाले कर्मचारियों को अनुग्रह राशि पर अतिरिक्त प्रोत्साहन मिलेगा.

इतिहास में पहली बार केबिन क्रू के लिए VRS

वैसे, आपको बता दें कि एयरलाइंस के इतिहास में शायद यह पहली बार है, जब केबिन क्रू के लिए भी वीआरएस लाया गया है. साथ ही, वीआरएस के लिए उम्र भी 55 साल से घटाकर महज 40 साल की गई है. एयर इंडिया के चीफ ह्यूमन रिसोर्स ऑफिसर सुरेश दत्त त्रिपाठी के हस्ताक्षर वाले मेमो में कहा गया है कि जो कर्मचारी 1 जून से 30 जून के बीच वीआरएस के लिए आवेदन करते हैं, उन्हें अपने क्षेत्र के पर्सनल डिपार्टमेंट के प्रमुख से संपर्क करने के लिए कहा जा रहा है.

मुंबई, कोलकाता में वॉक-इन इंटरव्यू

एक ओर जहां कंपनी ने वीआरएस की घोषणा की है, वहीं यह कोलकाता, मुंबई, बेंगलुरु और हैदराबाद में केबिन क्रू के लिए वॉक-इन इंटरव्यू आयोजित कर रही है. यही नहीं, एयर इंडिया अपनी प्रतिद्वंद्वि कंपनियों से इंजीनियरिंग, नेटवर्क प्लानिंग और रेवेन्यू मैनेजमेंट जैसे खास विभागों के मिडिल और सीनियर अधिकारियों को अपनी ओर खींच भी रही है.

बिजनेस स्टैंडर्ड की रिपोर्ट के मुताबिक, स्पाइसजेट में इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट का नेतृत्व करने वाले अरुण कश्यप एयर इंडिया में इंजीनियरिंग प्रमुख के रूप में शामिल हो गए हैं. टाटा ग्रुप की सिस्टर कंपनियों से भी अधिकारी एयर इंडिया में लाए जा रहे हैं.

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ