Ticker

99/recent/ticker-posts

Vaccinia Virus: कैंसर मारने वाले वायरस का दुनिया में पहला ह्यूमन ट्रायल शुरू

 

Vaccinia Virus: कैंसर मारने वाले वायरस का दुनिया में पहला ह्यूमन ट्रायल शुरू

Vaccinia Virus: वैज्ञानिकों ने कैंसर मारने वाले एक नए वायरस का ह्यूमन ट्रायल (human trial) शुरू किया है। जिसके तहत कैंसर के एक मरीज को एक नए जेनेटिकली मॉडिफाइड वायरस का इंजेक्शन (Genetically modified virus injection) लगाया गया है। वैक्सीनिया के नाम से जाने जाने वाले इस वायरस का जानवरों पर सफल परीक्षण हो चुका है। हालांकि, इसकी प्रभावशीलता का सही परीक्षण इस नए नैदानिक ​​परीक्षण से शुरू होता है।.

वैक्सीनिया वायरस को अमेरिका में कैलिफोर्निया (California in America) स्थित सिटी ऑफ होप कैंसर रिसर्च संस्थान (City of Hope Cancer Research Institute) ने डेवलप किया है। सिटी ऑफ़ होप (City of Hope Cancer Research Institute) ने विशेष रूप से इस संशोधित वायरस को कवर करने वाले पेटेंट अधिकारों को इम्यूजीन लिमिटेड को लाइसेंस दिया है। ये एक ऐसी कंपनी है जो कैंसर के खिलाफ प्रतिरक्षा प्रणाली को सक्रिय करने वाली थेरेपी को डेवलप करती है। इम्यूजीन ने "सीएफ33 - एचएनआईएस" वायरस को वैक्सीनिया नाम दिया है।

खराब वायरस का अच्छा काम

आजकल वायरस शब्द सुनना अपने आप में डरावना हो गया है। वायरस के साथ तुरंत कुछ बुरा सोचना स्वाभाविक है क्योंकि हमारे इर्दगिर्द बहुत सारे घातक वायरस हैं। हालांकि, अब वैज्ञानिक एक प्रयोगात्मक कैंसर उपचार में वैक्सिनिया नामक एक नए कैंसर-नाशक वायरस का उपयोग कर रहे हैं। उम्मीद है कि ये वायरस कैंसर के खिलाफ शरीर की प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया को बढ़ाएगा। ये वायरस को विशेष रूप से कैंसर कोशिकाओं को मारने के लिए बनाया गया है। पिछले पशु परीक्षणों में, वैज्ञानिकों ने बहुत ही आशाजनक परिणाम देखे हैं। इस तरह के वायरस एक सदी से भी अधिक समय से कैंसर के खिलाफ लड़ाई में बड़े हथियार रहे हैं, हालांकि, इन वायरस की सफलता बहुत सीमित रही है।

इस बार, वैज्ञानिकों ने कैंसर को मारने वाले वायरस को न केवल कैंसर कोशिकाओं को नुकसान पहुंचाने के लिए, बल्कि शरीर की प्रतिरक्षा प्रणाली के लिए उन्हें अधिक पहचानने योग्य बनाने के लिए बनाया है। शोधकर्ताओं को उम्मीद है कि इससे शरीर की प्रतिक्रिया को मजबूत बनाने में मदद मिलेगी, जिससे वह बेहतर तरीके से लड़ सकेगी।

वैज्ञानिकों ने जानवरों पर किया वैक्सीनिया का परीक्षण

कैंसर की दवाओं के पिछले नैदानिक ​​परीक्षणों ने भी आशाजनक परिणाम दिखाए हैं। अब वैक्सिनिया भी नए दरवाजे खोलने में मदद कर सकता है।मानव परीक्षणों पर जाने से पहले, वैज्ञानिकों ने जानवरों पर वैक्सीनिया का परीक्षण किया। कई मामलों में, उन्होंने पशु और प्रयोगशाला प्रयोगों में ट्यूमर को सिकोड़ने में बड़ी सफलता देखी। कैंसर को मारने वाले वायरस ने दिखाया है कि यह फेफड़े, स्तन, ओवरी, अग्नाशय और पेट के कैंसर के ट्यूमर के आकार को कम कर सकता है। उस सफलता के साथ, वैज्ञानिकों ने मानव परीक्षण पर आगे बढ़ने का फैसला किया। जानवरों में देखे गए परिणाम कई वजहों से हमेशा मानव रोगियों के लिए ठीक वैसे नतीजे नहीं दिखाते हैं। लेकिन शोधकर्ताओं को उम्मीद है कि यह वायरस मरीजों के कैंसर से लड़ने के मौके को बेहतर बना सकता है।

100 कैंसर रोगियों पर होगा पहले चरण का परीक्षण

वर्तमान में, वैक्सीनिया का परीक्षण केवल 100 कैंसर रोगियों पर पहले चरण के परीक्षण में किया जाएगा। इन रोगियों में मेटास्टेटिक या उन्नत ठोस ट्यूमर हैं, और प्रत्येक पर कम से कम दो अन्य उपचारों को आजमाया गया है। शोधकर्ताओं ने दवा को दो अलग-अलग समूहों में देने की योजना बनाई है। पहले ग्रुप को सिर्फ वैक्सीनिया मिलेगा। दूसरे ग्रुप को कैंसर मारने वाला वायरस और एक इम्यूनोथेरेपी दवा मिलेगी।

पहले चरण के परीक्षण ज्यादातर सुरक्षा और खुराक की सही मात्रा खोजने के बारे में हैं। फिर भी, यह संभवतः कैंसर से लड़ने के लिए एक वैकल्पिक तरीका खोजने की दिशा में एक महत्वपूर्ण अगला कदम है। वर्तमान ट्रायल 2025 की शुरुआत तक पूरा होने की उम्मीद है। इसलिए, हमें कोई अंतिम परिणाम देखने में कुछ समय लगेगा।

वायरस थेरेपी

ऑनकोलिटिक वायरस थेरेपी ऐसे वायरस होते हैं जो जेनेटिक रूप से संशोधित होते हैं ताकि स्वस्थ कोशिकाओं को बरकरार रखते हुए कैंसर कोशिकाओं को संक्रमित, दोहराने और मारने का काम किया जा सके। कुछ कैंसर में इम्यून चेकपॉइंट इनहिबिटर प्रभावी रहे हैं, लेकिन अक्सर ये कुछ समय बाद प्रतिक्रिया करना बंद कर देते हैं या प्रतिरोध डेवलप कर लेते हैं। प्रारंभिक शोध से पता चलता है कि ऑनकोलिटिक वायरस किसी व्यक्ति की प्रतिरक्षा प्रणाली को प्रबल बना सकते हैं और ट्यूमर में पीडी-एल 1 के स्तर को बढ़ा सकते हैं, जिससे इम्यूनोथेरेपी कैंसर के खिलाफ अधिक प्रभावी हो जाती है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ