Ticker

99/recent/ticker-posts

इन 5 वजहों से 1,100 अंक चढ़ा सेंसेक्स, मानसून की 'खुशखबरी' और यूएस फेड के रुख में नरमी से झूमा बाजार

 


एनालिस्ट्स ने कहा कि चीन में जहां कोविड से जुड़ी बंदिशों में कमी आ रही है। वहीं, बुधवार को जारी यूएस फेड मिनट्स से संकेत हैं कि इस साल आगे ब्याज दरों में बढ़ोतरी नहीं करने के संकेत मिले हैं

चीन के कोविड से जुड़ी बंदिशों में छूट के बाद एशियाई बाजारों की तर्ज पर भारतीय बाजारों में लगातार तीसरे दिन मजबूती देखने को मिल रही है। सेंसेक्स दोपहर 12 बजे लगभग 1,132 प्वाइंट यानी 2 फीसदी मजबूत होकर 56,022 पर, वहीं निफ्टी 326 प्वाइंट यानी 2 फीसदी बढ़त के साथ 16,678 पर कारोबार कर रहा है।

एनालिस्ट्स ने कहा कि चीन में जहां कोविड से जुड़ी बंदिशों में कमी आ रही है। वहीं, बुधवार को जारी यूएस फेड मिनट्स से संकेत हैं कि इस साल आगे ब्याज दरों में बढ़ोतरी नहीं करने के संकेत मिले हैं।

बाजार में बढ़ोतरी की ये हैं अहम वजह :

चीन में कोविड से जुड़ी सख्ती हुई कम

China Covid curbs : चीन ने शंघाई और बीजिंग में Covid से जुड़ी बंदिशों में कमी की है और साथ ही अर्थव्यवस्था को समर्थन देने वाले उपायों की पेशकश की है। शंघाई में जल्द ही सार्वजिक स्थलों में आने वाले लोगों को कोविड टेस्ट की शर्त से छूट दे दी जाएगी और बीजिंग में रविवार से आवाजाही की बंदिशों में ढील दे दी जाएगी। निक्केई दो फीसदी, हैंगसेंग 1.9 फीसदी, सीएसआई 300 0.5 फीसदी, ताइवान और कोस्पी में क्रमशः 1.7 फीसदी और 1.4 फीसदी मजबूती देखने को मिली।

यूएस फेड मिनट्स

US Fed minutes : फेडरल रिजर्व की हालिया मॉनेटरी पॉलिसी के मिनट्स से संकेत मिले कि पॉलिसीमेकर्स को एक सुर में लगा कि महंगाई से जूझने के बावजूद अमेरिकी अर्थव्यवस्था मजबूत स्थिति में है। मिनट्स के मुताबिक, समिति के ज्यादातर सदस्यों को लगता है कि आगामी जून और जुलाई की बैठकों में दरों में बढ़ोतरी “उपयुक्त होने की संभावना” है।

मानसून का समय से पहले पहुंचना

Monsoon : मानसून सामान्य से पहले पहुंचने से उम्मीद है कि सर्दियों में बोई जाने गेहूं फसल पर भीषण गर्मी की तगड़ी मार के बाद अब धान और तिलहन जैसी फसलों का उत्पादन बढ़ने की उम्मीद है। इससे निर्यात पर बंदिशें भी हटाने की संभावनाएं बढ़ गई हैं। दक्षिण-पश्चिम मानसून सामान्य से तीन दिन पहले केरल पहुंच गया है।

भारत का जीडीपी

India GDP : इनवेस्टर्स को मार्च तिमाही के जीडीपी डाटा का भी इंतजार है, जो 31 मई को जारी होगा। एनालिस्ट्स तिमाही में 2.7 फीसदी से 4.5 फीसदी की ग्रोथ की उममीद कर रहे हैं। एसबीआई को तिमाही में 2.7 फीसदी ग्रोथ का अनुमानन है, वहीं रेटिंग एजेंसी इकरा को 3.5 फीसदी और क्रिसिल को 4.5 फीसदी ग्रोथ का अनुमान है।

यूएस पेरोल डाटा

US payroll data : इनवेस्टर्स को अमेरिका के गैर कृषि पेरोल रिपोर्ट का भी इंतजार होगा, जो शुक्रवार को जारी होगा। Refinitiv द्वारा संकलित डाटा के मुताबिक, नियोक्ताओं को मई में 3,50,000 नौकरियां पैदा होने का अनुमान है जो जनवरी के बाद से सबसे कमजोर आंकड़ा होगा।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ