Ticker

99/recent/ticker-posts

बाजार में जारी रहेगी पुल बैक रैली, एक्सपर्ट के अनुसार Nifty में इसी हफ्ते देखने को मिल सकता है 16900 का स्तर

 


सेबी रजिस्टर्ड इन्वेस्टमेंट एडवाइजर मनीष शाह का कहना है कि अगर इस रैली को कायम रहना है तो निफ्टी को 16400 के ऊपर टिके रहना होगा

27 मई को उतार-चढ़ाव भरे कारोबार के बीच बाजार लगातार दूसरे हफ्ते तेजी के साथ बंद होने में कामयाब रहा था। BSE Sensex 632 अंकों की बढ़त के साथ 54885 के स्तर पर बंद हुआ था। वहीं, Nifty 50 इंडेक्स 182 अंकों की बढ़त के साथ 16353 के स्तर पर बंद हुआ था।

आगे कैसी रह सकती है बाजार की चाल

रेलीगेयर ब्रोकिंग के अजीत मिश्रा का कहना है कि इस हफ्ते से ही नए महीने की भी शुरुआत होगी ऐसे में बाजार की नजर ऑटो बिक्री और मैन्यूफैक्चरिंग एंड सर्विसेज पीएमआई जैसे हाई फ्रीक्वेंसी वाले आंकड़ों पर रहेगी। इसके पहले 31 मई को आने वाला तिमाही जीडीपी आंकड़ा बाजार के नजरिए से काफी अहम होगा। इसके अलावा बाजार की नजर मानसून की प्रगति पर भी लगी रहेगी। नतीजों के मौसम के आखिरी चरण में Aurobindo Pharma,Jindal Steel और Sunpharma के नतीजे भी अहम होंगे। इसके अलावा कुछ और कंपनियों के नतीजे भी आने वाले हैं।

यूएस मार्केट में आए हालिया उछाल के चलते थोड़ा दबाव कम हुआ है। हालांकि एक मजबूत बेस बनने और यहां से फिर उछाल हासिल करने के लिए बाजार में टिकाऊपन (sustainability) ज्यादा जरूरी है।

हम वर्तमान में मजबूत बेस के काफी करीब हैं। अब निफ्टी 16400 की बाधा पार करके 16700-16800 क्षेत्र की ओर बढ़ता नजर आ सकता है। अगर ऐसा नहीं होता है तो ट्रेडरों को एक अस्थिर हफ्ते के लिए खुद को तैयार रखना चाहिए।

Kotak Securities के अमोल अठावले का कहना है कि इस समय बाजार का शॉर्ट टर्म रुख निगेटिव से पॉजिटिव हो गया है। ट्रेंड फॉलो करने वाले ट्रेडरों के लिए 16200/54450 का लेवल काफी अहम है इस पर नजर रखें। इसके ऊपर जाने पर 16500-16650 /55300-55500 का स्तर देखने को मिल सकता है। वहीं अगर 16200/54450 से गिरावट आती है तो फिर हमें 15900-15850/53600-53500 का स्तर देखने को मिल सकता है।

Samco Securities की एशा शाह का कहना है कि इस हफ्ते ग्लोबल बाजार की नजर चीन के मैन्यूफैक्चरिंग पीएमआई आंकड़ों और अमेरिका के कंज्यूमर कॉन्फिडेंस इंडेक्स पर रहेगी। भारत में वित्त वर्ष 2022 की चौथी तिमाही के जीडीपी आंकड़ो पर बाजार की निगाहें रहेंगी। कमोडिटी की कीमतों में बढ़त, गेंहू के उत्पादन में गिरावट और पिछली तिमाही कॉन्टैक्ट इंटेंसिव सर्विसेज पर दबाव के कारण चौथी तिमाही के जीडीपी आंकड़ों में तिमाही आधार पर गिरावट देखने को मिल सकती है। अगर जीडीपी के आंकड़े उम्मीद से कमजोर रहते हैं तो बाजार का सेंटीमेंट खराब हो सकता है। इसके अलावा ऑटो सेल्स आंकड़े भी बाजार पर अपना असर दिखाएंगे। ये हफ्ता काफी इवेंटफुल रहेगा। ऐसे में निवेशकों को सलाह होगी कि वे बहुत ही सोच-समझ कर अपने ट्रेडिंग निर्णय लें।

सेबी रजिस्टर्ड इन्वेस्टमेंट एडवाइजर मनीष शाह का कहना है कि अगर इस रैली को कायम रहना है तो निफ्टी को 16400 के ऊपर टिके रहना होगा। पिछले दो हफ्तों के साइडवेज एक्शन के चलते निफ्टी में एक असेंडिंग ट्राइएंगल बनता दिखा है। 16400 के ऊपर आने वाला कोई ब्रेक आउट बाजार के लिए काफी अहम प्रगति होगी। इससे निफ्टी के लिए 16800-16900 के रास्ते खुल जाएंगे।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ