Ticker

99/recent/ticker-posts

कंपनियों के तिमाही नतीजों, ब्याज दरों पर अमेरिकी केंद्रीय बैंक के फैसले से तय होगी शेयर बाजार की स्थिति

 

कंपनियों के तिमाही नतीजों, ब्याज दरों पर अमेरिकी केंद्रीय बैंक के फैसले से तय होगी शेयर बाजार की स्थिति

अमेरिकी केंद्रीय बैंक (US Central Bank) फेडरल रिजर्व के ब्याज दरों (Interest Rates) पर फैसले, घरेलू मोर्चे पर वृहद आर्थिक आंकड़ों की घोषणाओं और कंपनियों के तिमाही नतीजे इस हफ्ते शेयर बाजारों (Share Market) की दिशा तय करेंगे. विश्लेषकों ने यह राय जताते हुए कहा है कि इसके अलावा वाहन कंपनियों के मासिक बिक्री आंकड़ों और जीवन बीमा निगम (LIC) के इनीशियल पब्लिक ऑफरिंग (IPO) पर सभी की निगाह रहेगी. ईद-उल-फितर के मौके पर मंगलवार को शेयर बाजार बंद रहेंगे. स्वस्तिका इन्वेस्टमार्ट के शोध-प्रमुख संतोष मीणा ने कहा कि अमेरिकी बाजार में तेज गिरावट के बाद इस हफ्ते बाजारों की शुरुआत सुस्त रहने की संभावना है. निवेशकों का ध्यान फिर अमेरिका में एफओएमसी बैठक के नतीजों पर रहेगा. एफओएमसी की बैठक बुधवार हो होनी और भारतीय बाजार गुरुवार को इस पर प्रतिक्रिया देगा.

मीणा ने कहा कि इस हफ्ते बाजार पर वैश्विक संकेतक हावी रहेंगे, क्योंकि एफओएमसी बैठक के अलावा बैंक ऑफ इंग्लैंड (बीओई) भी ब्याज दर पर निर्णय लेगा. इसके साथ ही अमेरिका के रोजगार के आंकड़े और वैश्विक स्तर पर पीएमआई आंकड़े भी इसी हफ्ते में आने वाले हैं. उन्होंने कहा कि इस हफ्ते वाहन बिक्री के मासिक आंकड़ों के अलावा रिलायंस, ब्रिटानिया, HDFC लिमिटेड, अडाणी एंटरप्राइजेज, हीरो मोटोकॉर्प, टाटा स्टील, टाइटन, कोटक महिंद्रा बैंक और टाटा पावर जैसी बड़ी कंपनियों के चौथी तिमाही के नतीजे भी आने हैं.

क्या कहते हैं एक्सपर्ट्स?

रेलिगेयर ब्रोकिंग के उपाध्यक्ष-शोध अजित मिश्रा ने कहा कि यह हफ्ता छुट्टियों की वजह से कम कारोबारी दिवसों का होगा. सप्ताह के दौरान कई महत्वपूर्ण घटनाक्रम और आंकड़े आने जा रहे हैं. बाजार के निवेशक सबसे पहले वाहन बिक्री के आंकड़ों पर प्रतिक्रिया देंगे.

मिश्रा ने कहा कि वृहद मोर्चे पर विनिर्माण पीएमआई और सेवा पीएमआई के आंकड़े क्रमश: दो मई और पांच मई को आएंगे. जीवन बीमा निगम (एलआईसी) का बहुप्रतीक्षित आईपीओ चार मई को खुलेगा. वैश्विक मोर्चे पर सभी की निगाह अमेरिकी केंद्रीय बैंक के बैठक के नतीजों पर रहेगी.

देश की सबसे बड़ी जीवन बीमा कंपनी एलआईसी ने गत बुधवार को अपने 21,000 करोड़ रुपये के आईपीओ के लिए प्राइस बैंड 902-949 रुपये प्रति शेयर निर्धारित किया. कंपनी का आईपीओ चार मई को खुलेगा. बीते हफ्ते बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 136.28 अंक या 0.23 फीसदी नीचे आ गया था.

सैमको सिक्योरिटीज में इक्विटी शोध प्रमुख येशा शाह ने कहा कि वैश्विक स्तर पर एफओएमसी बैठक चर्चा में होगी. इस बैठक में किसी भी आश्चर्यजनक फैसले से वैश्विक बाजारों में घबराहटपूर्ण प्रतिक्रिया हो सकती है. वहीं, मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के खुदरा शोध प्रमुख सिद्धार्थ खेमका ने कहा कि एलआईसी का बड़ा आईपीओ चार मई को खुलेगा. इससे बाजार से निकासी हो सकती है और कुछ समय के लिए बिकवाली दबाव देखने को मिल सकता है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ