Ticker

99/recent/ticker-posts

मुकेश अंबानी की रिलायंस ने रचा इतिहास, ऐसा करने वाली बनी भारत की पहली कंपनी

 

मुकेश अंबानी की रिलायंस ने रचा इतिहास, ऐसा करने वाली बनी भारत की पहली कंपनी

केश अंबानी की कंपनी अब 100 अरब डॉलर से अधिक का एनुअल रेवेन्यू हासिल करने वाली पहली भारतीय कंपनी बन गई है। वित्त वर्ष 2022 में रिलायंस का एनुअल कंसोलिडेटिड रेवेन्यू 792,756 करोड़ (104.6 बिलियन डॉलर) था जो कि 47 फीसदी साल दर साल के हिसाब बढ़ा। 

बिजनेस डेस्क। वित्त वर्ष 2012 की चौथी तिमाही के नतीजों में रिलायंस इंडस्ट्रीज (आरआईएल) ने एक नया मुकाम हासिल किया है। मुकेश अंबानी की कंपनी अब 100 अरब डॉलर से अधिक का एनुअल रेवेन्यू हासिल करने वाली पहली भारतीय कंपनी बन गई है। वित्त वर्ष 2022 में रिलायंस का एनुअल कंसोलिडेटिड रेवेन्यू 792,756 करोड़ (104.6 बिलियन डॉलर) था जो कि 47 फीसदी साल दर साल के हिसाब बढ़ा। कंपनी का वार्षिक पीएटी 10 बिलियन डॉलर के करीब था, क्योंकि यह 26.2 फीसदी की वृद्धि के साथ 67,845 करोड़ (9 बिलियन डॉलर) था। एनुअल कंसोलिडेटिड एबिटडा 28.8 फीसदी के साल दर साल की वृद्धि के साथ 125,687 करोड़ रुपए (16.6 बिलियन डॉलर) रहा। रिलायंस ने खुदरा, डिजिटल सेवाओं और तेल एवं गैस कारोबार में मजबूत वृद्धि दर्ज की।

खुदरा कारोबार का एनुअल रेवेन्यू लगभग 2 लाख करोड़ रुपए तक पहुंच गया, जबकि एबिटडा ने 12,423 करोड़ रुपए (1.6 बिलियन डॉलर) का ऑल टाइम हाई लेवलदेखा। इस बीच, डिजिटल कारोबार का वार्षिक राजस्व 1 लाख करोड़ रुपए का आंकड़ा पार कर गया और इसका एबिटडा 40,268 करोड़ रुपए (5.3 बिलियन डॉलर) के रिकॉर्ड पर रहा। तेल और गैस का वार्षिक परिचालन लाभ 5,457 करोड़ रुपए (720 मिलियन डॉलर) के सात वर्षों के हाई पर पहुंच गया।

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के अध्यक्ष और प्रबंध निदेशक मुकेश डी अंबानी ने कहा कि महामारी की मौजूदा चुनौतियों और बढ़ी हुई जियो पॉलिटिकल टेंशन के बावजूद, रिलायंस ने वित्त वर्ष 2021-22 में एक मजबूत प्रदर्शन दिया है। मुझे अपनी डिजिटल सेवाओं और खुदरा क्षेत्रों में मजबूत वृद्धि की सूचना देते हुए प्रसन्नता हो रही है। हमारे ओटूसी व्यवसाय ने अपनी लचीलापन साबित किया है और ऊर्जा बाजारों में अस्थिरता के बावजूद मजबूत सुधार का प्रदर्शन किया है।

पेश हैं कमाई की खास बातें

चौथी तिमाही में कमाई: वित्त वर्ष की चौथी तिमाही में, मालिकों को रिलायंस का लाभ समेकित आधार पर 16,203 करोड़ रुपए रहा, जो एक साल पहले इसी अवधि के 13,227 करोड़ रुपए की तुलना में 22.4 फीसदी अधिक है। पिछले साल की समान तिमाही में 154,896 करोड़ रुपए के मुकाबले समेकित राजस्व 36.79 फीसदी बढ़कर 211,887 करोड़ रुपए हो गया। टैक्स के बाद लाभ चौथी तिमाही में 11,094 करोड़ रुपए बनाम बीते साल ही चौथी तिमाही में 7,617 करोड़ रुपए था। परिचालन से समेकित राजस्व 133,991 करोड़ रहा। 

जियो प्लेटफॉर्म्स: वर्ष के लिए टेल्को का ग्रॉस रेवेन्यू 95,804 करोड़ था, जो 17.1 फीसदी से अधिक था। एबिटडा 39,112 करोड़ रुपए रहा, जो वित्त वर्ष 22 में 20.9 फीसदी की वृद्धि है, जबकि पीएटी 15,487 करोड़ रुपए पर आया, जो वर्ष के लिए 23.6 फीसदी की वृद्धि है। वर्ष के लिए कंपनी का कुल डेटा ट्रैफि़क 91.4 बिलियन जीबी था, जो कि 46.3 फीसदी की वृद्धि है। तिमाही के लिए नकद लाभ 34,639 करोड़ रुपए है, जो वर्ष-दर-वर्ष 21.6 फीसदी की वृद्धि है। 31 मार्च 2022 तक कुल ग्राहक आधार 410.2 मिलियन है।

रिलायंस रिटेल: आरआईएल के बयान के अनुसार, रिलायंस रिटेल ने अपने लगातार और लचीले प्रदर्शन को बनाए रखा, जबकि एक और साल की मजबूत राजस्व वृद्धि और लाभ में सुधार किया। व्यवसाय ने अब तक का सबसे अधिक राजस्व और एबिटडा दर्ज करते हुए नई ऊंचाइयों को छूना जारी रखा। खुदरा कारोबार ने वित्त वर्ष 22 के लिए 199,704 करोड़ रुपए का सकल राजस्व देखा, जो पिछले साल की तुलना में 26.7 फीसदी की वृद्धि है। वर्ष के दौरान कोविड प्रतिबंधों के बावजूद है, जिसमें 87 फीसदी स्टोर चालू हैं और 81 फीसदी स्टोर्स पर प्री-कोविड स्तरों की तुलना में दर्ज किए गए हैं। इसके अलावा, कारोबार ने पहली बार एक साल में 12,000 करोड़ रुपये के एबिटडा का मील का पत्थर पार किया। इसने वित्त वर्ष 22 के लिए 12,381 करोड़ रुपए का सर्वकालिक उच्च एबिटडा दर्ज किया। वर्ष के लिए शुद्ध लाभ 28.7 फीसदी की तेजी के साथ 7,055 करोड़ अधिक देखने को मिला। रिलायंस रिटेल ने अपने स्टोर और डिजिटल कॉमर्स प्लेटफॉर्म के विस्तृत पोर्टफोलियो के माध्यम से देश भर में अधिक से अधिक ग्राहकों को आकर्षित करना जारी रखा है, जिसका पंजीकृत ग्राहक आधार 24 फीसदी साल-दर-साल बढ़कर 193 मिलियन हो गया है।

तेल से रसायन कारोबार: आरआईएल के अनुसार, वित्त वर्ष 2022 के लिए राजस्व 56.5 फीसदी वर्ष-दर-वर्ष बढ़कर 500,900 करोड़ हो गया, मुख्य रूप से कच्चे तेल की कीमतों में वृद्धि और डाउनस्ट्रीम उत्पादों की उच्च कीमत की प्राप्ति के कारण। खंड राजस्व वृद्धि को भी मुख्य रूप से परिवहन ईंधन के नेतृत्व में 7.5 फीसदी अधिक मात्रा द्वारा समर्थित किया गया था। इसके अलावा, इसने बताया कि वित्त वर्ष 2022 के लिए एबिटडा में 38.1 फीसदी साल दर साल से 52,722 करोड़ में तेजी से सुधार हुआ, मुख्य रूप से मांग पुनरुद्धार के कारण बेहतर परिवहन ईंधन मार्जिन, पॉलिमर और पॉलीएस्टर के लिए उच्च घरेलू उत्पाद प्लेसमेंट और अनुकूलित संचालन के कारण। ऊर्जा, फीडस्टॉक और उत्पाद मिश्रण में। वित्त वर्ष 2022 की चौथी तिमाही में वैश्विक रिफाइनरी थ्रूपुट 79.8 एमबी/डी पर लगभग समान तिमाही दर तिमाही रहा, हालांकि, यह 4.1 एमबी/डी से वर्ष-दर-वर्ष आधार पर अधिक था। इसके अलावा, चौथी तिमाही के लिए घरेलू तेल की मांग में साल-दर-साल 3.1 फीसदी की वृद्धि हुई। इसका नेतृत्व जेट फ्यूल और गैसोलीन ने किया था। इन उत्पादों की मांग में क्रमश: 6.5 फीसदी और 1.4 फीसदी की वृद्धि हुई। साल-दर-साल आधार पर डीजल की मांग स्थिर रही।

तेल और गैस कारोबार: आरआईएल के अनुसार वित्त वर्ष 22 के लिए यहां राजस्व 3.5& साल-दर-साल बढ़कर 7,492 करोड़ रुपए हो गया। एबिटडा 72.8 फीसदी के एबिटडा मार्जिन के साथ तेजी से बढ़कर 5,457 करोड़ हो गया। यह मुख्य रूप से केजीडी6 से आर-क्लस्टर और सैट-क्लस्टर फील्ड से गैस उत्पादन शुरू होने के बाद केजीडी6 और सीबीएम में उच्च गैस मूल्य प्राप्ति के साथ उच्च उत्पादन के कारण था। वित्त वर्ष 2022 में केजीडी6 गैस के लिए औसत मूल्य प्राप्ति 4.92/एमएमबीटीयू डॉलर बनाम वित्त वर्ष 2021 में 3.96/एमएमबीटीयू डॉलर थी। विशेष रूप से, इन दोनों क्षेत्रों से वर्तमान संयुक्त औसत उत्पादन> 18.0 एमएमएससीएमडी है। इसके अलावा, वित्त वर्ष 2022 के दौरान केजीडी 6 से उत्पादित गैस 149.5 बीसीएफ (आरआईएल का हिस्सा) और वित्त वर्ष 2021 में 16.0 बीसीएफ (आरआईएल का हिस्सा) थी। केजीडी ने आर-क्लस्टर क्षेत्र से कच्चे तेल का 0.135 एमएमबीओ का भी उत्पादन किया। वित्त वर्ष 22 के लिए सीबीएम गैस का उत्पादन वित्त वर्ष 21 में 11.8 बीसीएफ की तुलना में 10.2 बीसीएफ था।

मीडिया कारोबार: आरआईएल ने इस बात पर प्रकाश डाला कि विज्ञापन राजस्व में मजबूत वृद्धि के कारण मीडिया व्यवसाय संचालन राजस्व 25 फीसदी बढ़ा। हालांकि, सब्सक्रिप्शन आय स्थिर रही क्योंकि एनटीओ 2.0 के कार्यान्वयन पर अनिश्चितता साल भर जारी रही और सब्सक्रिप्शन मूल्य निर्धारण में किसी भी बदलाव को प्रतिबंधित कर दिया। व्यवसाय ने 35.7 फीसदी की वृद्धि के साथ, 1,080 करोड़ का अब तक का सबसे अधिक कंसोलिडेटिड एबिटडा दिया। एबिटडा मार्जिन बढ़कर अब तक के उच्चतम 18.4 फीसदी (150 बीपीएस), 4 साल के निरंतर सुधार पर पहुंच गया।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ