Ticker

99/recent/ticker-posts

Export Restriction: शुगर स्टॉक्स की दूसरे दिन भी हुई खूब पिटाई, निर्यात पर पाबंदी का दिखा असर

 

Export Restriction: शुगर स्टॉक्स की दूसरे दिन भी हुई खूब पिटाई, निर्यात पर पाबंदी का दिखा असर

निर्यात पर पाबंदी लगने से लगातार दूसरे दिन चीनी कंपनियों के शेयर गिरावट पर रहे.

नई दिल्ली. चीनी निर्यात की सीमा तय करने और इसके निर्यात पर रोक लगाए जाने से चीनी कंपनियों के शेयरों में बुधवार को लगातार दूसरे दिन भारी बिकवाली हुई. इससे पहले निर्यात पर पाबंदी लगाए जाने की अटकलों से मंगलवार को भी निवेशकों में भगदड़ मच गई थी. उनमें चीनी कंपनियों के शेयर बेचने की होड़ लग गई थी. केंद्र सरकार ने एक अधिसूचना जारी कर 1 जून, 2022 से चीनी का निर्यात रोकने की घोषणा की है.

भारी बिकवाली की वजह से बुधवार को लगभग सभी चीनी कंपनियों के शेयर गिरावट पर रहे. डालमिया भारत शुगर इंडस्ट्रीज के शेयर में सबसे ज्यादा गिरावट आई. एनएसई पर यह 14.04 फीसदी लुढ़क कर 351.20 पर बंद हुआ. जबकि मगध शुगर एंड एनर्जी के शेयर 10.74 फीसदी की गिरावट के साथ 282.90 रुपये पर बंद हुए. मंगलवार को भी यह शेयर करीब 10 फीसदी टूटा था.

गिरावट के शिकार

इसी तरह, द्वारिकेष शुगर इंडस्ट्रीज और उत्तम शुगर का शेयर 9 फीसदी से ज्यादा कमजोर हुआ. द्वारिकेष शुगर 9.83 फीसदी की कमजोरी के साथ 99.10 रुपये पर बंद हुआ. जबकि उत्तम शुगर 9.14 फीसदी टूटकर 246.50 रुपये पर लुढ़क गया. बलरामपुर शुगर का शेयर एनएसई पर 7.88 फीसदी गिरकर 358.50 रुपये पर पहुंच गया. दो दिन में इसमें 54.40 रुपये की गिरावट आई है. सोमवार को इसका बंद भाव 412.90 रुपये था.

धामपुर और उगर में लोअर सर्किट

धामपुर शुगर और उगर शुगर के शेयरों में लगातार दूसरे दिन 5 फीसदी का लोअर सर्किट लगा. बाजार में कारोबार की शुरुआत होते ही इनमें लोअर सर्किट लग गया. इससे पहले मंगलवार को भी ऐसा ही हुआ था. धामपुर शुगर का भाव 239.65 रुपये रहा. जबकि उगर शुगर के शेयर का भाव 52.45 रुपये रहा.

श्री रेणुका शुगर्स 6.47 फीसदी गिरकर 41.95 रुपये पर पहुंच गया. इसके अलावा, अवध शुगर एंड एनर्जी का शेयर एनएसई पर 7.21 फीसदी टूटकर 582 रुपये पर आ गया. मंगलवार को यह 11 फीसदी तक टूटा था.

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ