Ticker

99/recent/ticker-posts

Zomato ने 2022 में निवेशकों की डुबो दी आधी रकम, भारी बिकवाली से रिकॉर्ड लो पर पहुंचा शेयर

 

Zomato ने 2022 में निवेशकों की डुबो दी आधी रकम, भारी बिकवाली से रिकॉर्ड लो पर पहुंचा शेयर

शुक्रवार को जोमैटो का शेयर 2.51 फीसदी की गिरावट के साथ 72 रुपये पर बंद हुआ। इंट्रा डे के दौरान शेयर ने 71.10 रुपये का निचला स्तर और 74.85 रुपये का ऊपरी स्तर छुआ

Zomato Share : जोमैटो का शेयर पांच दिन में लगभग 12 फीसदी की गिरावट के साथ अपने रिकॉर्ड लो पर पहुंच गया। जोमैटो के बिजनेस को लेकर इनवेस्टर्स की निराशा के चलते शेयर में बिकवाली का दबाव बना हुआ है। शुक्रवार को शेयर 2.51 फीसदी की गिरावट के साथ 72 रुपये पर बंद हुआ। इंट्रा डे के दौरान शेयर ने 71.10 रुपये का निचला स्तर और 74.85 रुपये का ऊपरी स्तर छुआ।

2022 की बात करें तो फूड डिलिवरी प्लेटफॉर्म (food delivery platform) इनवेस्टर्स की लगभग आधी रकम डुबो चुकी है।

सीसीआई के रडार पर है शेयर

भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग (CCI) के एक आदेश से शेयर को तगड़ा झटका लगा है। इससे पहले न्यू एज टेक स्टॉक्स में भारी बिकवाली ने सेंटीमेंट को बिगाड़ दिया था। 4 अप्रैल को आयोग ने रेस्टोरेंट पार्टनर्स के साथ व्यवहार में अनुचित बिजनेस प्रैक्टिसेज अपनाने के आरोप में स्विगी (Swiggy) और जोमैटो (Zomato) जैसे फूड डिलिवरी प्लेटफॉर्म्स के खिलाफ विस्तृत जांच के आदेश दिए थे।

खबरों के मुताबिक, जोमैटो ने सफाई दी है कि कंपनी जांच में सहयोग के लिए आयोग के साथ मिलकर काम करती रहेगी और रेगुलेटर की बताएगी की उसके तौर तरीके प्रतिस्पर्धा कानूनों के अनुरूप हैं।

जोमैटो (Zomato) ने इस महीने की शुरुआत में एक एक्सचेंज फाइलिंग में कहा, “हम आयोग की कोई भी सिफारिश को लागू करने के इच्छुक हैं।”

संस्थागत निवेशकों ने घटाई है हिस्सेदारी

संस्थागत निवेशकों ने मार्च, 2022 में समाप्त तिमाही के दौरान कंपनी में हिस्सेदारी घटाई है। घरेलू म्यूचुअल फंड्स ने अपनी 2.82 फीसदी हिस्सेदारी में से 8.3 करोड़ इक्विटी शेयर यानी 1.1 फीसदी हिस्सेदारी बेच दी है।

एफपीआई ने कंपनी की 10.17 फीसदी हिस्सेदारी में से 6.8 करोड़ शेयर यानी 0.9 फीसदी हिस्सेदारी बेच दी है। हालांकि, छोटे शेयरहोल्डर्स की जोमैटो में होल्डिंग 2.07 फीसदी बढ़कर 9.07 फीसदी के स्तर पर पहुंच गई है।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ