Ticker

99/recent/ticker-posts

Wipro Results: Q4 में विप्रो के मुनाफे में उछाल, लगातार छठी तिमाही रेवेन्यू ग्रोथ तीन फीसदी से अधिक

 


Wipro Results: देश की दिग्गज आईटी कंपनी विप्रो (Wipro) को पिछले वित्त वर्ष 2021-22 की आखिरी तिमाही जनवरी-मार्च 2022 में 4 फीसदी अधिक मुनाफा हासिल हुआ.

यह लगातार छठी तिमाही रही, जब विप्रो का रेवेन्यू तीन फीसदी से अधिक दर से बढ़ा.

Wipro Results: देश की दिग्गज आईटी कंपनी विप्रो (Wipro) को पिछले वित्त वर्ष 2021-22 की आखिरी तिमाही जनवरी-मार्च 2022 में 4 फीसदी अधिक मुनाफा हासिल हुआ. आईटी कंपनी ने आज मार्च तिमाही के आंकड़े जारी किए हैं. इसके मुताबिक कंपनी को जनवरी-मार्च 2022 में 3,092.5 करोड़ रुपये का कंसालिडेटेड प्रॉफिट हुआ था. एक साल पहले की समान अवधि में कंपनी को 2,974.1 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ था.

विप्रो के एमडी और सीईओ Thierry Delaporte ने कहा कि उनके लिया यह साल बहुत बेहतर रहा. वित्त वर्ष 2021-22 में कंपनी को 1040 करोड़ डॉलर (79.6 हजार करोड़ रुपये) का रेवेन्यू हासिल हुआ. उन्होंने कहा कि यह लगातार छठी तिमाही रही, जब कंपनी का रेवेन्यू तीन फीसदी से अधिक दर से बढ़ा. विप्रो के शेयर बीएसई पर 52 हफ्ते के रिकॉर्ड भाव से 31 फीसदी डिस्काउंट पर हैं.

Wipro Results की डिटेल्स

विप्रो को जनवरी-मार्च 2022 में 3,092.5 करोड़ रुपये का कंसालिडेटेड प्रॉफिट हुआ था. एक साल पहले की समान अवधि में कंपनी को 2,974.1 करोड़ रुपये का मुनाफा हुआ था.

मार्च 2022 तिमाही में ऑपरेशंस से कंपनी का कंसालिडेटेड रेवेन्यू सालाना आधार पर 28 फीसदी बढ़कर 20860 करोड़ रुपये रहा.

पूरे वित्त वर्ष की बात करें तो वित्त वर्ष 2021-22 में विप्रो का मुनाफा सालाना आधार पर 12.57 फीसदी की उछाल के साथ 12,232.9 करोड़ रुपये हो गया. वहीं ऑपरेशंस से रेवेन्यू 28 फीसदी बढ़कर 79,747.5 करोड़ रुपये हो गया.

विप्रो के मुख्य वित्तीय अधिकारी जतिन दलाल के मुताबिक सालाना आधार पर वित्त वर्ष 2021-22 में 10 करोड़ डॉलर (765.34 करोड़ रुपये) से अधिक के बकेट में आठ ग्राहक जोड़े. पिछले वित्त वर्ष के लिए कंपनी का ऑपरेटिंग मार्जिन 17.7 फीसदी रहा.

वित्त वर्ष 2021-22 में कंपनी की नेट इनकम 160 करोड़ डॉलर (12.24 हजार करोड़ रुपये) के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गई.

शेयरों में आज बिकवाली

विप्रो के शेयरों में आज मार्च तिमाही के नतीजे के दिन 2.59 फीसदी की गिरावट रही और बीएसई पर यह 13.55 रुपये कमजोर होकर 509 रुपये के भाव पर बंद हुआ. विप्रो के शेयर 52 हफ्ते के रिकॉर्ड भाव से करीब 31 फीसदी डिस्काउंट पर है. इसके शेयर पिछले साल 14 अक्टूबर 2021 को 739.80 रुपये के 52 हफ्ते के रिकॉर्ड स्तर पर थे. पिछले एक महीने में बीएसई पर इसके शेयर 15.45 फीसदी कमजोर हुआ है. इस साल की बात करें तो अब तक यह 29.32 फीसदी टूट चुका है.

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ