Ticker

99/recent/ticker-posts

Rainbow Childrens Medicare के IPO को निवेशकों का ठंडा रिस्पॉन्स, इश्यू के पहले दिन मिला 29 फीसदी सब्सक्रिप्शन

 

Rainbow Childrens Medicare के IPO को निवेशकों का ठंडा रिस्पॉन्स, इश्यू के पहले दिन मिला 29 फीसदी सब्सक्रिप्शन

NSE के आंकड़ों के अनुसार, इस Rainbow Childrens Medicare के IPO को पहले दिन 59,62,896 शेयरों के लिए बोलियां मिलीं, जबकि ऑफर पर 2,05,14,617 शेयर हैं.

रेनबो चिल्ड्रेन्स मेडिकेयर (Rainbow Children’s Medicare) के IPO को पहले दिन निवेशकों का ठंडा रिस्पॉन्स मिला है.

Rainbow Childrens Medicare IPO: देश की लीडिंग मल्टी स्पेशिएलिटी पेडियाट्रिक और गाइनी हॉस्पिटल चेन रेनबो चिल्ड्रेन्स मेडिकेयर (Rainbow Children’s Medicare) के IPO को पहले दिन निवेशकों का ठंडा रिस्पॉन्स मिला है. बुधवार को सब्सक्रिप्शन के पहले दिन इस आईपीओ को केवल 29 फीसदी सब्सक्रिप्शन मिला है. NSE के आंकड़ों के अनुसार, इस आईपीओ को 59,62,896 शेयरों के लिए बोलियां मिलीं, जबकि ऑफर पर 2,05,14,617 शेयर हैं. यह इश्यू सब्सक्रिप्सन के लिए 29 अप्रैल तक खुला रहेगा. सब्सक्रिप्शन के पहले दिन रिटेल इंडिविजुअल इन्वेस्टर्स (RII) के हिस्से को 48 फीसदी सब्सक्रिप्शन मिला है, जबकि नॉन इंस्टीट्यूशनल इनवेस्टर्स कोटा को 11 फीसदी और क्वालिफाइड इंस्टीट्यूशनल बायर्स (QIB) सेगमेंट को 10 फीसदी सब्सक्रिप्शन मिला.


आईपीओ से जुड़ी डिटेल

मल्टी-स्पेशियलिटी पेडियाट्रिक हॉस्पिटल चेन ने मंगलवार को कहा कि उसने एंकर निवेशकों से लगभग 470 करोड़ रुपये जुटाए हैं. अपर प्राइस बैंड के हिसाब से इस आईपीओ से 1,581 करोड़ रुपये मिलने की उम्मीद है. इस इश्यू के लिए 516-542 रुपये का प्राइस बैंड रखा गया है. IPO के तहत 280 करोड़ रुपये के नए शेयर जारी हुए, जबकि मौजूदा शेयरधारक ऑफर फॉर सेल (OFS) के तहत 2.4 करोड़ शेयरों की बिक्री करेंगे. ओएफएस के तहत प्रमोटर्स रमेश कंचरला, दिनेश कुमार चिरला और आदर्श कंचरला, प्रमोटर ग्रुप एंटिटी पद्म कंचरला और निवेशक ब्रिटिश इंटरनेशनल इंवेस्टमेंट पीएलसी (पूर्व नाम सीडीसी ग्रुप पीएलसी) और सीडीसी इंडिया शेयरों की बिक्री करेंगे.


कंपनी के बारे में डिटेल्स


ब्रिटेन की डेवलपमेंट फाइनेंस इंस्टीट्यूशन सीडीसी ग्रुप पीएलसी की रेनबो ने भारत में सबसे पहले हैदराबाद में 1999 में 50 बिस्तरों का पीडियाट्रिक स्पेशियल्टी हॉस्पिटल शुरू किया था. अभी की बात करें तो 20 दिसंबर 2021 तक उपलब्ध आंकड़ों के मुताबिक रेनबो के देश के छह शहरों में 14 अस्पताल और तीन क्लीनिक हैं. यह 1500 बेड ऑपरेट करती है. यह बच्चों से जुड़ी सभी स्वास्थ्य समस्याओं, गर्भवती महिलाओं से जुड़ी दिक्कतों के लिए और फर्टलिटी केयर जैसी सर्विसेज मिलती है.

वित्तीय स्थिति की बात करें तो कंपनी को वित्त वर्ष 2018-19 में 44.59 करोड़ रुपये का शुद्ध मुनाफा (प्रॉफिट आफ्टर टैक्स) हुआ था जो अगले वित्त वर्ष 2019-20 में बढ़कर 55.34 करोड़ रुपये हो गया. हालांकि इसके अगले ही वित्त वर्ष 2020-21 में यह घटकर 39.57 करोड़ रुपये पर आ गया. पिछले वित्त वर्ष 2021-22 में मुनाफा तेजी से बढ़ा और अप्रैल-दिसंबर 2021 में सालाना आधार पर शुद्ध मुनाफा समान अवधि में 38.52 करोड़ रुपये (अप्रैल-दिसंबर 2020 में शुद्ध मुनाफा) से बढ़कर 126.41 करोड़ रुपये हो गया.

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ