Ticker

99/recent/ticker-posts

अडानी ने बनाई एएमजी मीडिया नेटवर्क्स कंपनी,जल्द शुरु हो सकता है परिचालन

 

अडानी ने बनाई एएमजी मीडिया नेटवर्क्स कंपनी,जल्द शुरु हो सकता है परिचालन

नयी दिल्ली 27 अप्रैल (वार्ता) अरबपति उद्यमी गौतम अडानी के नेतृत्व वाली अडानी एंटरप्राइजेज समूह ने एएमजी मीडिया नेटवर्क्स लिमिटेड नाम से कंपनी बनाई है जो मीडिया कारोबार करेगी। विश्लेषकों ने इसे मीडिया और एंटरटेनमेंट क्षेत्र के लिए एक अच्छा घटनाक्रम बताया है।

कंपनी के बयान के मुताबिक एएमजी मीडिया नेटवर्क्स का पूर्ण स्वामित्व अडानी एंटरप्राइजेज के पास होगा। यह मीडिया कंपनी प्रकाशन, विज्ञापन, प्रसारण और विभिन्न प्रकार के मीडिया नेटवर्कों के लिए सामाग्री के वितरण का काम करेगी।

अडानी एंटप्राइजेज ने बीएसई को दी सूचना में कहा है कि एएमजी मीडिया नेटवर्क्स लिमिटेड उचित समय पर अपना परिचालन शुरु करेगी।

मीडिया जगत में अडानी जैसे बड़े कारोबारियों के प्रवेश से इस क्षेत्र में प्रतिस्पर्धा बढ़ने की संभावना है।

उद्योग जगत के सूत्रों ने कहा कि भारत के समाचार और मीडिया क्षेत्र में अपना प्रभुत्व जमाने की अडानी समूह की बड़ी योजना है। वे पहले से स्थापित टीवी समाचार चैनल, अखबार और डिजिटल समाचार सामग्री बनाने वाली इकाईयों को भी खरीद सकते हैं।

इस घटनाक्रम पर डेलॉयट इंडिया के पार्टनर, (मीडिया और एंटरटेनमेंट) जेहिल ठक्कर ने कहा,“यह मीडिया उद्योग में काम करने वाले पेशेवरों और मीडिया के वस्तु विषय की सामग्री बनाने वालों के लिए अच्छी खबर है। कुल मिलाकर क्षेत्र के विकास के लिए यह बहुत अच्छी खबर है।”

श्री ठक्कर का कहना है कि भारत में मीडिया क्षेत्र में वृद्धि की काफी संभावनाएं हैं क्योंकि देश में अभी सभी घऱों में टेलिविजन नहीं पहुंचा है और 5जी मोबाइल क्रांति के आऩे का अभी इंतजार है।

उन्होंने कहा कि भारत में अभी भी घरों में फाइबर लाइन बहुत कम पहुंचा है। अभी देश में ऐसा बहुत कुछ किया जाना बाकी है जिससे मीडिया का प्रसार होता है।

परामर्श कंपनी ईवाई और उद्योग मंडल की फिक्की की पिछले महीने जारी एक रिपोर्ट में कहा गया है कि 2022 में भारत में मीडिया और मनोरंजन का कारोबार 17 प्रतिशत बढ़कर 1,89,000 करोड़ रुपए (25.2 अरब डॉलर) हो जाएगा। जो कोविड आपदा से पहले 2019 के कारोबार के बराबर होगा। इस रिपोर्ट के अऩुसार, 2024 तक यह कारोबार साल दर साल 11 प्रतिशत के वृद्धि दर से 2.32 हजार करोड़ रुपए (30.9 अरब डॉलर) तक पहुंच जाएगा।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ