Dard Shayari In Hindi

 



क्यों निकल आते है आंसू मुस्कुराने के बाद

क्यों ढलता है सूरज शाम ढल जाने के बाद

उदास रहने कीं आदत सी पड़ गयी है

अब दिल संभालता ही नही है टूट जाने के बाद।


KYON NIKAL AATE HAIN AANSU MUSKURANE KE BAAD

KYON DHALTA HAI SOORAJ SHAM DHAL JAANE KE BAAD

UDAS REHNE KI AADAT SI PAD GAYI HAI

AB DIL SAMBHALTA HI NAHI HAI TOOT JANE KE BAAD





हर पल दिल में एक ही शोर है
कोई घना अँधेरा मेरे चारों ओर है
तेरे दर्द देने की एक ही वजह रही होगी
शायद तेरा मेरे सिवा भी कोई और है

HAR PAL DIL ME EK HI SHOR HAI
KOI GHANA ANDHERA MERE CHARO ORE HAI
TERE DARD DENE KI EK HI WAJAH RAHI HOGI
SHAYAD TERA MERE SIVA BHI KOI AUR HAI




 हंसने वालों को क्यों रुला देती है दुनिया
जाने वालों को क्यों भुला देती है दुनिया
जिंदगी में जाने क्या कसर रह जाती है
जो मर जाने के बाद भी जला देती है दुनिया।

HASNE WALON KO KYO RULA DETI HAI DUNIYA
JANE WALON KO KYON BHULA DETI HAI DUNIYA
ZINDGI ME JANE KYA KASAR REH JATI HAI
JO MAR JANE KE BAAD BHI JALA DETI HAI DUNIYA




किसी के ग़म का अंदाज़ा कौन लगा सकता है
किसी को सही राह कौन दिखा सकता है
अरे किनारे वालों तुम उसका दर्द क्या जानो
दर्द की गहराई तो डूबने वाला ही बता सकता है।

KISI KE GAM KA ANDAZA KAUN LAGA SAKTA HAI
KISI KO SAHI RAAH KAUN DIKHA SAKTA HAI
ARE KINARE WALON TUM USKA DARD KYA JANO
DARD KI GEHRAYI TO DOOBNE WALA HI BATA SAKTA HAI




खुदा करे तू मोहब्बत की गलियों में बदनाम हो जाये
मेरे कातिलों में शुमार तेरा नाम हो जाये
मुझे छोड़ तो दिया पर एक एहसान और कर दे
इतनी पिला कि आज की शाम मेरी आखिरी शाम हो जाये।

KHUDA KARE TU MOHABBAT KI GALIYON ME BADNAM HO JAYE
MERE KATILON ME SHUMAR TERA NAAM HO JAYE
MUJHE CHODH TO DIYA PAR EK EHSAAN AUR KAR DE
ITNI PILA KI AAJ KI SHAAM MERI AKHIRI SHAAM HO JAYE




मुझे चाहा भी और भुला दिया
मुझे हंसाया भी और रुला दिया
हमने उनसे माँगे थे सुकून के कुछ पल
उन्होंने तो हमे मौत की नींद सुला दिया


MUJHE CHAHA BHI AUR BHULA DIYA

MUJHE HANSAYA BHI AUR RULA DIYA

HAMNE UNSE MAANGE THE SUKOON KE DO PAL

UNHONE TO HAME MAUT KI NEEND SULA DIYA



Dard Shayari In Hindi


ज़िंदगी मे क्या होगा आगे कुछ तय भी तो नहीं

किसको दिल के जख्म दिखायें 

कोई अपना है भी तो नहीं

कोई ऐसी जगह दिखाओ जहाँ खुलकर रो सकें हम

हमारे लिए इस दुनिया मे कोई ऐसी जगह है भी तो नहीं।


ZINDGI ME KYA HOGA AAGE KUCH TAY BHI TO NAHI

KISKO DIL KE ZAKHM DIKHAYEIN

KOI APNA HAI BHI TO NAHI

KOI AISI JAGAH DIKHAO JAHAN KHULKAR RO SAKEIN HAM

HAMARE LIYE IS DUNIYA ME AISI JAGAH HAI BHI TO NAHI



Dard Shayari In Hindi


ज़िन्दगी की शाख पर 

खुशियों का बसेरा नहीं

मेरे ग़मो की रात का कोई सवेरा नहीं

हम चाहते रहे सबको ज़िन्दगी भर अपना समझ कर

पर जब वक़्त बुरा आया तो कोई मेरा नहीं।


ZINDGI KI SHAKH PAR 

KHUSHIYON KA BASERA NAHI

MERE GAMON KI RAAT KA 

KOI SAVERA NAHI

HAM CHAHTE RAHE SABKO ZINDGI BHAR APNA SAMAJHKAR

PAR JAB WAQT BURA AYA TO KOI MERA NAHI



Dard Shayari In Hindi


जैसे मैं जी रहा हूँ

क्या तुम भी जी सकोगे

ज़हर रखा है करीब में 

क्या तुम पी सकोगे

कर चुका हूँ बर्बाद किसी बेवफा के लिए खुद को

क्या तुम भी ऐसे ही खुद को बर्बाद कर सकोगे।


JAISE MAI JEE RAHA HOON

KYA TUM BHI JEE SAKOGE

ZEHAR RAKHA HAI KAREEB ME

KYA TUM PEE SAKOGE

KAR CHUKA HOON BARBAAD KISI BEWAFA KE LIYE KHUD KO

KYA TUM BHI AISE HI KHUD KO BARBAAD KAR SAKOGE





मैं दिल के जख्म तुम्हे क्या दिखाऊँ यारो

बस इतना समझ लो 

दिन रात रोना मेरा मुकद्दर बन गया है।


MAI DIL KE ZAKHM TUMHE KYA DIKHAUN YARON

BAS ITNA SAMAJH LO 

DIN RAAT RONA MERA MUKADDAR BAN GAYA HAI





क्यों तुम्हे फर्क नहीं पड़ता किसी को रुलाने से

क्यों तुमने तोड़ दिया दिल किसी बहाने से

तुम तो चले गए अकेला छोड़ कर हमें

जब तुम ही मेरे न रहे 

तो क्या उम्मीद रखूँ इस मतलबी ज़माने से।


KYON TUMHE FARQ NAHI PADTA KISI KO RULANE SE

KYON TUMNE TOD DIYA DIL KISI BAHANE SE

TUM TO CHALE GAYE AHELA CHODH KAR HAMEIN

JAB TUM HI MERE NA RAHE 

TO KYA UMMED RAKHOON IS MATLABI ZAMANE SE



Dard Shayari In Hindi


रोता हूँ दिन रात तुम्हे याद कर के

शायद तुम खुश हो मेरी ज़िंदगी बर्बाद कर के

ए खुदा ! मेरे यार को खुश रखना हमेशा

हम भी खुश रहेंगे ख़ुदा से  ये फरियाद कर के।


ROTA HOON DIN RAAT TUMHE YAAD KARKE

SHAYAD TUM KHUSH HO MERI ZINDGI BARBAAD KARKE

AYE KHUDA MERE YAR KO KHUSH RAKHNA HAMESHA

HAM BHI KHUSH RAHENGE KHUDA SE YE FARIYAD KARKE





आज भी खंज़र की तरह चुभती हैं तुम्हारी बातें

तुम्हारी इन बातों के कारण ही सोती नहीं मेरी रातें

तुमसे जो प्यार करते थे हम, वो प्यार तो मिटा दिया

काश तुम जाते-जाते अपनी यादें भी मिटा जाते।


AAJ BHI KHANJAR KI TARAH CHUBHTI HAIN TUMHARI BATEIN

TUMHARI IN BATON KE KARAN HI SOTI NAHI MERI RATEIN

TUMSE JO KARTE THE HAM, WO PYAR TO MITA DIYA

KASH TUM JATE JATE APNI YADEIN BHI MITA JATE





खुद को बर्बाद कर बैठे

तुझे पाने की चाह में

हम लुट गए बर्बाद हो गए

मोहब्बत की राह में।


KHUD KO BARBAAD KAR BAITHE

TUJHE PANE KI CHAH ME

HAM LUT GAYE BARBAAD HO GAYE

MOHABBAT KI RAAH ME





मत कर कोशिश हमारी ज़िंदगी को

आसान बनाने की

क्योंकि हमने तैयारी कर ली है

इस दुनिया से जाने की।


MAT KARO KOSHISH HAMARI ZINDGI KO

ASAAN BANANE KI

KYONKI HAMNE TAIYARI KAR LI HAI

IS DUNIYA SE JANE KI





अब तो कभी-कभी रोने का मन करता है

पल-पल आंखें भिगोने का मन करता है

एक आम आदमी की ज़िंदगी भी क्या ज़िन्दगी है

अब तो ये ज़िन्दगी खोने का मन करता है।


AB TO KABHI KABHI RONE KA MAN KARTA HAI

PAL PAL ANKHEIN BHIGONE KA MAN KARTA HAI

EK AAM AADMI KI ZINDGI BHI KYA ZINDGI HAI

AB TO YE ZINDGI KHONE KA MAN KARTA HAI





मुझे ज़िम्मेदारियाँ सोने नहीं देती 

मुझे किसी का होने नहीं देती 

बहुत मन करता है फूट-फूटकर रोने का

पर ये ज़ालिम दुनिया मुझे रोने भी नहीं देती।


MUJHE JIMMEDARIYAN SONE NAHI DETI

MUJHE KISI KA HONE NAHI DETI

BAHUT MAN KARTA HAI FOOT-FOOTKAR RONE KA

PAR YE ZALIM DUNIYA MUJHE RONE BHI NAHI DETI 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ

Ad Code